हेप सी गंभीर, लेकिन ठीक हो सकने वाला रोग है। क्या आप जोखिम में हो सकते हैं? | HepCFree.ca

Rethink Hep C

हेप सी के बारे में पुनर्विचार करें

हेपाटाइटिस सी, जिसे हेप सी के नाम से भी जाना जाता है, खून में पाया जाने वाला विषाणु है जो यकृत का प्रदाह उत्पन्न करता है। यह यकृत की गंभीर समस्याएं पैदा कर सकता है और संभवतः सिरोसिस और यहां तक कि यकृत का कैंसर भी पैदा करता है। दूसरे शब्दों में, अधिकतर लोग इसे जितना गंभीर मानते हैं यह उससे कहीं अधिक गंभीर रोग है। बहरहाल, एक खुशख़बरी यह है कि बहुत से रोगियों के लिए हेप सी उपचार योग्य होता है।

हेप सी का परीक्षण कराना आसान होता है, क्योंकि हेप सी का पता रक्त परीक्षण से चल सकता है। कनाडियन यकृत प्रतिष्ठान 1945 और 1975 के बीच जन्मे प्रत्येक व्यक्ति के परीक्षण की सिफ़ारिश करता है।

हेप सी का जितनी जल्दी उपचार किया जाता है, आपके पूरी तरह ठीक होने की गुंजाइश उतनी ही अधिक रहती है – उपचार पूरा होने के तीन महीने बाद जब जांच की जाती है तो आपके खून में कोई विषाणु नहीं मिलता। लेकिन ठीक हो जाने का अर्थ यह नहीं कि आप दुबारा हेप सी से संक्रमित होने से सुरक्षित हो जाते हैं।

और भी अच्छी ख़बरे हैं: कुछ मामलों में हेप सी द्वारा आपके यकृत को पहुंची क्षति ठीक हो सकती है। इसलिए, उपचार हो जाने के बाद आपके यकृत के लिए कुछ समय बाद खुद को “ठीक” कर लेना संभव हो सकता है।

हेप सी कैसे बढ़ता है

4 में ~1 स्वयं विषाणु से लड़कर उसे परास्त करने में सक्षम होता है। 4 में ~ 3 विषाणु स्वयं विषाणु से लड़कर उसे परास्त करने में सक्षम नहीं होते, और छह महीने बाद संक्रमण को पुराना मान लिया जाता है।

आप सोच सकते हैं कि लक्षण न होने का अर्थ है कि चिंता वाली कोई बात नहीं है। दुर्भाग्य से ऐसा नहीं है। सच्चाई यह है कि आपको बिना लक्षण के वर्षों – यहां तक कि दशकों तक - हेप सी रह सकता है।

हेप सी संक्रमण के शुरुआती छह महीने प्रबल माने जाते हैं। अधिकतर लोगों के मामले में प्रबल संक्रमण दीर्घकालिक बन जाते हैं, जो कहीं अधिक गंभीर रोग है और यकृत को गंभीर रूप से क्षति पहुंचा सकता है, दीर्घकालिक स्वास्थ्य समस्याओं, और यहां तक कि मृत्यु का भी कारण बन सकता है।


क्या आप जानते थे?

“हेपाटाइटिस सी” दीर्घकालिक रोग और उसके कारक विषाणु का नाम है। यदि आपका चिकित्सक कहता है कि आपको हेप सी है तो इसका अर्थ यह है कि आप इस विषाणु से संक्रमित हैं और आपको दीर्घकालिक संक्रमण हो गया है। याद रखें कि हेप सी वाइरस के संपर्क में आने वाले हर व्यक्ति को दीर्घकालिक हेप सी नहीं होता।


यदि आप लक्षण अनुभव करते हैं, तो उनमें निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं:

  • थकान
  • सुस्ती
  • भूख में कमी
  • पेशियों और जोड़ों में दर्द
  • मितली
  • उदर पीड़ा
  • पीलिया (आंखों के सफ़ेद हिस्से और त्वचा का पीलापन)

पुराना हेप सी चुप्पा रोग है क्योंकि किसी व्यक्ति में यह बरसों बिना किसी लक्षण के रह सकता है, और उसे पता भी नहीं चलता कि वह धीरे-धीरे उसके यकृत को क्षति पहुंचा रहा है।

अच्छी ख़बर यह है कि हेप सी का इलाज हो सकता है, और आपको जितनी जल्दी हेप सी के होने का पता लग जाए, आप उतनी जल्दी अपने स्वास्थ्य परिचर्या प्रदाता से अपने विकल्पों के बारे में चर्चा कर सकते हैं। सभी उपचार हर व्यक्ति पर असरदार नहीं होते, इसलिए आपका चिकित्सक यह तय करने में आपकी सहायता कर सकता है कि आपके लिए सबसे अच्छा क्या है।

क्या आप सोचते हैं कि आपको हेप सी का जोखिम है?

यह पता करने के लिए कि क्या आपको इलाज कराना चाहिए, जोखिम कारकों की समीक्षा करें।



हेप सी के लिए परीक्षण

आपका चिकित्सक यह तय करने के लिए कुछ आसान परीक्षण कराएगा कि क्या आपको दीर्घकालिक हेप सी है।

पहले, आपका चिकित्सक यह पता करने के लिए एक परीक्षण करेगा कि क्या आपके शरीर में हेप सी विषाणु के लिए एंटीबॉडीज़ हैं। यह परीक्षण आसान से रक्त परीक्षण से किया जा सकता है।

यदि हेप सी वाइरस विषाणु के लिए आपकी जांच सकारात्मक है, तो इसका अर्थ यह होता है कि अपने जीवन में कभी न कभी, आप हेप सी विषाणु के संपर्क में आए हैं। ये एंटीबॉडीज़ केवल इसका संकेत करती हैं कि आप विषाणु के प्रति खुले रहे हैं। ये हेप सी के संक्रमण या पुनः संक्रमण से आपका बचाव नहीं करते।

यदि आपकी जांच हेप सी विषाणु के लिए सकारात्मक है तो आपका चिकित्सक यह जानने के लिए कुछ परीक्षण करेगा कि क्या आप हेप सी से संक्रमित हैं। याद रखें कि चार में से एक व्यक्ति स्वयं हेप सी से लड़कर उसे परास्त कर सकता है। लेकिन इन लोगों के शरीर में विषाणु के एंटीबॉडी फिर भी रहेंगे।

यह रक्त परीक्षण आपके रक्त में विषाणु के आनुवंशिक पदार्थ की जांच करता है। यह बताएगा कि यदि आपके खून में अब भी विषाणु हैं तो कितने हैं। यह इकलौती जांच है जो हेप सी के निदान की पुष्टि करती है। आपका चिकित्सक इस जांच के नतीज़ों को “वाइरल लोड” कह सकता है।

यह परीक्षण बता सकता है कि आपके शरीर में हेप सी विषाणु की कौन सी नस्ल (या “जीनोटाइप”) मौजूद है। हेप सी वाइरस के छह सामान्य जीनोटाइप हैं – 1 से 6 तक; कनाडा में जीनोटाइप 1 सामान्य है। कनाडा में होने वाले शेष सारे संक्रमण जीनोटाइप 2 और 3 के होते हैं। आपका जीनोटाइप यह तय करने में भी आपके चिकित्सक की सहायता करेगा कि आपके लिए कौन से उपचार उपयुक्त हैं।

आपका चिकित्सक यह जानने के लिए भी परीक्षण का आदेश दे सकता है कि आपका यकृत कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है। इनमें रक्त परीक्षण या आपके यकृत का अनाक्रामक परीक्षण भी शामिल हो सकता है।

यदि आप आश्वस्त नहीं हैं कि आपकी जांचों में से कोई जांच क्या बताती है तो अपने चिकित्सक, नर्स या किसी अन्य स्वास्थ्य परिचर्या पेशेवर से बात करें।


सच्चाई जानें

~250,000

लगभग 250,000 कनाडियन दीर्घकालिक हेप सी से संक्रमित हैं

~75%

हेप सी से ग्रस्त 10 में से लगभग 8 कनाडियन 1945 से 1975 के बीच के जन्मे

44%

हेप सी से ग्रस्त लगभग आधे कनाडियन जानते ही नहीं कि वे संक्रमित हैं


हेप सी यकृत प्रत्यारोपण का अग्रणी कारण है

दीर्घकालिक हेप सी के 5% रोगी यकृत के कैंसर या गंभीर सिरोसिस से मर जाएंगे

हेप सी का उपचार हो सकता है